संगति का रहस्य | Kabir ke dohe | motivation

संगति का रहस्य | Kabir ke dohe | motivation

RJN Motivation

Share:
जिस प्रकार से हम जैसा खाना खाते है वैसा ही हमारा शरीर बनता हैं। उसी प्रकार से हम जिन लोगों के साथ रहते हैं वैसे ही हम बनते चले जाते हैं। कबीर दास जी कहते हैं साधु की संगति करोगे साधु बन जाओगे। अमीर की संगत करोगे। तो आज नही तो कल अमीर बन ही जाओगे।
...Read Less
जिस प्रकार से हम जैसा खाना खाते है वैसा ही हमारा शरीर बनता हैं। उसी प्रकार से हम जिन लोगों के साथ रहते हैं वैसे ही हम बनते चले जाते हैं। कबीर दास जी कहते हैं साधु की संगति करोगे साधु बन जाओगे। अमीर की संगत करोगे। तो आज नही तो कल अमीर बन ही जाओगे।
...Read Less